Best Government Jobs After Graduation In Art’s

Best Government Jobs After Graduation In Art’s: अगर आपने भी आर्ट्स विषय से पढ़ाई करी है। तो आपको हम आज ऐसी सरकारी नौकरियों के बारे में बताएंगे जिनको आप बड़ी आसानी से पा सकते है। जिससे आप अपने भविष्य को सुरक्षित कर सकते हैं। अधिकतर लोगों को 10वीं पढ़ने के बाद अपने भविष्य के बारे में चिंता होने लगती हैं। क्योंकि उनके करियर की शुरुआत यही से होती है।

Best Government Jobs After Graduation In Art's
WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now

अगर आपको यह लगता है कि आर्ट्स स्ट्रीम से एजुकेशन प्राप्त करने के बाद कोई अच्छी नौकरी नहीं मिलती है। तो हम आपको बताना चाहते हैं कि देश के सबसे बड़े प्रशासनिक पद पर कार्यरत अभ्यर्थी भी आर्ट्स स्ट्रीम से होकर ही गुजरते हैं, और देश के सर्वोच्च प्रशासनिक पदों पर रहने वाले सभी अभ्यर्थी भी आर्ट्स स्ट्रीम के तहत ही एजुकेशन प्राप्त करते हैं। आज इस लेख में हम इसी की बात करेंगे की आर्ट्स विषय से पढ़ाई करने के बाद आप कौन-कौन सी नौकरियां कर सकते हैं।

1. Indian Administrative Service (IAS)

भारतीय प्रशासनिक सेवा IAS अखिल भारतीय सेवाओं में से एक है। इसके अधिकारी अखिल भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी है। भारतीय प्रशासनिक सेवा में सीधी भर्ती संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा के माध्यम से की जाती है तथा उनका आवंटन भारत सरकार द्वारा राज्यों को कर दिया जाता है। इस पद के ऑफिसर के पास कई बड़े अधिकार होते हैं। आईएएस के लिए 7वें वेतन आयोग के तहत सैलरी दी जाती है। एक आईएएस को शुरुआत में 56,100 रुपए महीने की सैलरी दी जाती है। जो बाद में 2 लाख से 3 लाख रुपए महीने तक हो सकती है।

योग्यता ( Eligibility)

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के लिए उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री होनी चाहिए। यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में बैठने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 21 वर्ष होनी चाहिए और 32 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए

चयन प्रक्रिया (Selection Process)

इस पद के लिए अभ्यर्थियों का चयन यूपीएससी (UPSC) परीक्षा के माध्यम से किया जाता है। इसके अलावा उमीदावारों का चयन प्रीलिम्स (Prilims), मेंस (Mains) और इंटरव्यू (Interview) के बाद किया जाता है।

2. Advocate (वकील)

एक एडवोकेट एक अधिकारी होने के साथ-साथ एक समान्य नागरिक भी होता है, जिसके पास कानूनी अधिकारों और दायित्वों के बारे में शिक्षित करने की जिम्मेदारी होती है। एक सक्षम वकील वही है जो कानूनी सीमाओं के भीतर रहकर प्रगति करता है और वैध उद्देश्यों के लिए अपनी शक्तियों का उपयोग करता है। यदि आप भी भविष्य में कानून के बारे में सीरियस हैं। और न्यायिक क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं तो आपको 5 साल के लिए निम्न पाठ्यक्रमों में दाखिला लेना होगा। यह 5 वर्षीय एलएलबी डिग्री आपको मौलिक स्नातक पाठ्यक्रम के साथ-साथ कानूनी विषयों को भी पढ़ाती है।

  • बीए एलएलबी (BA LLB)
  • बीकॉम एलएलबी (B.com LLB)
  • बीबीए एलएलबी (BBA LLB)
  • बीटेक एलएलबी (B.tech LLB)
  • बीएससी एलएलबी (BSc LLB)

योग्यता ( Eligibility):

भारत में एक वकील बनने के लिए सबसे पहले कानून में स्नातक की डिग्री, यानी एलएलबी (Legam Baccalaureus) प्राप्त करनी होगी। आपके लिए अच्छी खबर है क्योंकि वकील बनने पर कोई उम्र प्रतिबंध नहीं है।

चयन प्रक्रिया (Selection Process)

इस परीक्षा में उपस्थित होने के लिए उम्मीदवारों को अपनी पसंद के राज्य बार काउंसिल के साथ एक वकील के रूप में अपना नामांकन कराना आवश्यक है। एक बार जब वे एआईबीई (AIBE) परीक्षा पास कर लेते हैं, तो बीसीआई उन्हें प्रैक्टिस का प्रमाणपत्र प्रदान करता है, जिससे वे वकील के रूप में प्रैक्टिस करने के योग्य हो जाते हैं।

3.Teacher (शिक्षक)

एक शिक्षक ही अपने स्टूडेंट को सही मार्गदर्शन दे सकता है और अपने स्टूडेंट्स को सफलता की सही राह दिखा सकता है। भारत में सरकारी टीचर की नौकरी सबसे सुरक्षित नौकरी में से एक मानी जाती है। सरकारी टीचर केन्द्र और राज्य सरकार द्वारा नियुक्त किए जाते हैं। इनकी नियुक्ति अलग-अलग कक्षा और विषय के अनुसार होती है। शिक्षकों को एक महत्वपूर्ण और निर्णायक भूमिका निभानी है। अगर आप भी सरकारी टीचर बनना चाहते है तो हम आपको इस आर्टिकल में शिक्षकों की 3 श्रेणियां बताएंगे।

  1. प्राइमरी शिक्षक (PRT)
  2. प्रशिक्षित ग्रेजुएट शिक्षक (TGT)
  3. पोस्ट ग्रेजुएट शिक्षक (PGT)

योग्यता ( Eligibility):

एक सरकारी शिक्षक बनने के लिए सबसे पहले आपको 10वीं, 12वीं और ग्रेजुएशन की डिग्री के साथ ही पोस्ट ग्रेजुएशन पूरी करनी होगी। एक पोस्टग्रेजुएट टीचर बनने के लिए आपको ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन के साथ-साथ BEd की डिग्री लेनी होगी। आप PGT की परीक्षा में बैठ सकते हैं, और पास करने पर पीजीटी टीचर बन सकते हैं। इसके बाद आपको एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करना होगा। सरकारी टीचर के लिए आवेदन करने के लिए उम्मीदवार की उम्र 18 से 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

चयन प्रक्रिया (Selection Process)

केंद्र सरकार द्वारा सरकारी स्कूलों में काम करने के लिए Central Teacher Eligibility Test (CTET) के लिए आवेदन करें। अगर आप अन्य राज्य से है तो आपके राज्य के अनुसार शिक्षकों के लिए पात्रता परीक्षा देनी होगी। उसके बाद आप मेन्स एग्जाम के लिए आवेदन कर सकते है। एक सामान्य ग्रेड वाले शिक्षकों को 55 हजार रुपये तक का वेतन मिलता है।

4. स्टाफ सिलेक्शन कमीशन (SSC)

कर्मचारी चयन आयोग (SSC) केंद्रीय पुलिस संगठन (CPO), संयुक्त स्नातक स्तर (CGL) सहित विभिन्न सरकारी विभागों में भर्ती के लिए विभिन्न परीक्षाएं आयोजित करता है।एसएससी सीजीएल (SSC CGL) परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवारों के लिए जो पद उपलब्ध हैं उनमें सहायक, निरीक्षक, प्रभागीय लेखाकार, कनिष्ठ सांख्यिकी अधिकारी और लेखा परीक्षक शामिल हैं।

योग्यता ( Eligibility):

उम्मीदवारों को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री पूरी करनी होगी। SSC CGL परीक्षा में शामिल होने के लिए उम्मीदवारों को पद के लिए निर्दिष्ट आयु सीमा के भीतर होना चाहिए। एसएससी सीजीएल के लिए आयु सीमा 18 साल से 32 साल के बीच होनी चाहिए। वे ही उम्मीदवार परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं।

एसएससी सीपीओ (SSC CPO) पदों के लिए पात्र होने के लिए उम्मीदवारों की आयु 20 से 25 वर्ष के बीच होनी चाहिए। उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री हासिल की होनी चाहिए।

चयन प्रक्रिया (Selection Process)

एसएससी सीजीएल चयन प्रक्रिया में दो चरण शामिल होते हैं। टियर-1 और टियर-2 दोनों ये दोनो कंप्यूटर आधारित परीक्षा (CBT) हैं। एसएससी सीजीएल के तहत विभिन्न पदों पर चयनित होने के लिए उम्मीदवारों को सभी स्तरों में अर्हता प्राप्त करनी होगी। ग्रुप बी पद के लिए शुरुआती एसएससी सीजीएल प्रतिमाह वेतन 35,400 से 1 लाख 12 हजार रूपए दिया जाता है।

एसएससी सीपीओ चयन प्रक्रिया में चार चरण शामिल हैं। टियर 1, शारीरिक दक्षता परीक्षण (पीईटी)/शारीरिक मानक परीक्षण (पीएसटी), टियर 2 और मेडिकल टेस्ट।

5. PSU (Public Sector Undertaking)

भारत सरकार द्वारा नियंत्रित और संचालित उद्यमों और उपक्रमों को सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम या पीएसयू कहा जाता है। केंद्र या किसी राज्य सरकार के आधिपत्य वाले सार्वजनिक उपक्रम में सरकारी पूंजी की हिस्सेदारी 51 प्रतिशत या इससे अधिक होती है। भारत में पीएसयू 3 प्रकार के होते हैं अर्थात् महारत्न, नवरत्न और मिनीरत्न पीएसयू (सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम) में करियर युवाओं के लिए आकर्षक है क्योंकि इन नौकरियों की प्रतिष्ठा और विभिन्न सुविधाएं जैसे अच्छी वेतन वृद्धि और कई सुविधाएं हैं।

योग्यता ( Eligibility)

पीएसयू भर्ती के लिए पात्र होने के लिए उम्मीदवारों को अच्छे अंक प्राप्त करने होंगे। अधिकांश पीएसयू में, उम्मीदवारों को सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त कॉलेज/विश्वविद्यालय से न्यूनतम 60% अंक प्राप्त करने की आवश्यकता होती है।

पीएसयू सरकार के लिए पात्र होने के लिए अभ्यर्थियों को उनकी श्रेणी के आधार पर आयु सीमा मानदंड हर कंपनी में अलग-अलग होता है। आमतौर पर आयु सीमा 21 से 30 साल है। GATE के माध्यम से PSU भर्ती के लिए, उम्मीदवारों को नौकरी के लिए शॉर्टलिस्ट होने के लिए अपने वैध GATE परीक्षा स्कोर का उपयोग करना होगा।

चयन प्रक्रिया (Selection Process)

कई पीएसयू में कही GATE तो कहीं NET एग्जाम के माध्यम से भर्ती होती है। कैंपस इंटरव्यू सिलेक्शन और सीधे सिलेक्शन भी होता है। कुछ पीएसयू में भर्ती प्रतियोगी परीक्षा के आधार पर होती है। इसलिए अगर आप गेट एग्जाम में सही परफॉर्म नहीं कर पाते हैं तो आप प्रतियोगी परीक्षा के माध्यम से भी पीएसयू में नौकरी पा सकते हैं।

भारत में पीएसयू को 3 श्रेणीयों में विभाजित किया गया है। वे महारत्न, नवरत्न और मिनीरत्न हैं।

1. महारत्न PSUs

  • Indian Oil Corporation Limited (IOCL)
  • Oil and Natural Gas Corporation (ONGC)
  • Bharat Heavy Electricals Limited (BHEL)
  • Bharat Petroleum Corporation Limited (BPCL)
  • Gas Authority of India Limited (GAIL)
  • Hindustan Petroleum Corporation Limited (HPCL) Etc.

2. नवरत्न PSUs

  • Hindustan Aeronautics Limited (HAL)
  • Mahanagar Telephone Nigam Limited (MTNL)
  • National Aluminium Company (NALCO)
  • National Buildings Construction Corporation (NBCC)
  • National Mineral Development Corporation (NMDC)
  • NLC India Limited (Neyveli Lignite) Etc.

3. मिनीरत्न PSUs

  • Bharat Coking Coal Limited (BCCL)
  • Bharat Dynamics Limited (BDL)
  • Bharat Earth Movers Limited (BEML)
  • Bharat Sanchar Nigam Limited (BSNL)
  • Bridge and Roof Company (India) Etc.

Leave a comment