Jharkhand: नकल करने वालों की अब खैर नहीं, झारखंड विधानसभा में पास हुआ प्रतियोगी परीक्षा बिल!

Jharkhand: झारखंड विधानसभा ने झारखण्ड प्रतियोगी परीक्षा (भर्ती में अनुचित साधनों की रोकथाम और निवारण) बिल 2023 पारित कर दिया है। यह विधेयक परीक्षाओं में अनुचित साधनों के उपयोग और अनियमितताओं पर नकेल कसने और प्रश्नपत्र लीक की घटनाओं को रोकने के लिए लागू किया है। सीएम सोरेन ने कहा बीजेपी ने राज्य में 20 साल तक नौजवानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया है। यह विधेयक छात्रों के हित में है। बिल को अन्य राज्यों ने भी अपनाया है।

Jharkhand Pratiyogita pariksha Bill pass

Jharkhand: बिल के प्रावधान

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now

व्यक्ति, प्रिंटिंग प्रेस, परीक्षा संचालन के लिए अनुबंधित या प्रबंध तंत्र से षड़यंत्र करने पर 10 साल की सजा, 10 करोड़ का जुर्माना है।

नकल करते हुए पहली बार पकड़े जाने पर तीन साल की जगह एक वर्ष की सजा, पांच लाख जुर्माना है।

नकल करते हुए दूसरी बार पकड़े जाने पर सात वर्ष की जगह तीन वर्ष की सज़ा, 10 लाख जुर्माना है।

संगठित अपराध में परीक्षा प्राधिकरण के साथ षड़यंत्र करने पर दस साल सजा, 10 करोड़ रुपए जुर्माना है।

परीक्षा के बाद प्रश्न पत्र लूटने, चोरी करने या ओएमआर शीट नष्ट करने पर 10 साल सजा, दो करोड़ रुपए जुर्माना है।

Jharkhand: विपक्ष ने बिल का किया विरोध

विपक्ष के विधायकों ने चर्चा के दौरान इसे काला कानून बताया आसन के सामने नारेबाजी की और विधेयक की प्रतियां फाड़कर सदन का बहिष्कार किया। विधानसभा में सदन के पटल पर रखे गए इस विधेयक के समर्थन में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपनी बात रखी। बीजेपी विधायक अनंत ओझा ने कहा कि कानून में किए गए प्रावधानों का असर छात्रों पर ही पड़ेगा।

Important Links

For Latest Jobs : Click Here

Leave a comment